twitter facebook youtube
                  


Programme Outcomes


आर्यभट्ट महाविद्यालय (दिल्लीविश्वविद्यालय)

हिन्दी विभाग

 

बी.ए. (ऑनर्स) हिंदी पाठ्यक्रम

हिन्दी ऑनर्स के पाठ्यक्रम का उद्येश्य विद्यार्थियों में रचनात्मक क्षमता के साथ आलोचनात्मक विवेक का विकास करना है। भारतीय संविधान में देवनागरी में लिखित हिंदी को संघ की राजभाषा घोषित किया गया है। भाषा जहाँ मानवीय सम्प्रेषण का मुख्य माध्यम है वहीं साहित्य समाज, संस्कृति और कला को जानने-समझने का सृजनात्मक जरिया भी है। साहित्य का अध्ययन विद्यार्थियों के भीतर मानवता, बंधुत्व और सकारात्मकता भरते हुए उसे एक संवेदनशील नागरिक बनाता है। भाषा, आलोचना, काव्यशास्त्र का अध्ययन जहाँ सैद्धांतिक समझ को विकसित करता है वहीं कविता, नाटक, कहानी में उन सिद्धांतों को व्यावहारिक रूप में समझने की युक्तियाँ छिपी रहती हैं। इस प्रकार हिन्दी ऑनर्स का पाठ्यक्रम विद्यार्थियों को भाषा और साहित्य  को समझने के लिए सैद्धांतिक और व्यावहारिक दोनों रूपों से सक्षम बनाता है।

    भूमंडलीकरण के बाद हिन्दी एक वैश्विक भाषा बन गई है और दुनिया के दो सौ से अधिक विश्वविद्यालयों में इसका पठन-पाठन हो रहा है। यह पाठ्यक्रम वर्तमान सन्दर्भों के अनुकूल है साथ ही इस पाठ्यक्रम का आधुनिक रूप रोजगारपरक भी है। इस पाठ्यक्रम का उद्येश्य समाज की जटिल संबंधों की पहचान करना भी है जिससे विद्यार्थी देश, समाज, राष्ट्र और विश्व के साथ बदलते समय में व्यापक सरोकारों से अपना सम्बन्ध जोड़ सकें।

    इस पाठ्यक्रम के माध्यम से उच्च शैक्षिक स्तर पर हिन्दी भाषा किस प्रकार मुख्य भूमिका निभा सकती है, इससे संबंधित परिणाम को प्राप्त किया जा सकेगा। व्यावसायिक क्षमता को बढ़ावा देने के लिए भाषा, अनुवाद, कंप्यूटर जैसे विषयों को हिन्दी से जोड़कर पढ़ना जिससे बाज़ार के